Sunday 26 September 2010

दादी की खोज में

(आज बेटियों का दिन है यानी डॉटर्स डे, आज के दिन बेटियों को समर्पित है यह कविता। यह कविता मुझे बहुत प्रिय है, इसलिए इसे मैंने अपने संग्रह में सबसे पहली कविता के रूप में शामिल किया था। जब बरसों पहले यह कविता लिखी थी, तो लिखने के बाद कई दिनों तक बहुत रोया था और आज भी यह कविता मुझे रुला देती है।)

उस गुवाड़़ी में यूँ अचानक बिना सूचना दिये मेरा चले जाना
घर-भर की अफ़रा-तफ़री का बायस बना
नंग-धड़ंग बच्चों को लिये दो स्त्रियाँ झोंपड़ों में चली गईं
एक बूढ़ी स्त्री जो दूर के रिश्ते में
मेरी दादी की बहन थी
मुझे ग़ौर से देखने लगी
अपने जीवन का सारा अनुभव लगा कर उसने
बिना बताए ही पहचान लिया मुझे

‘तू गंगा को पोतो आ बेटा आ’

मेरे चरण-स्पर्श से आल्हादित हो उसने
अपने पीढे़ पर मेरे लिए जगह बनायी
बहुओं को मेरी शिनाख़्त की घोषणा की
और पूछने लगी मुझसे घर-भर के समाचार

थोड़ी देर में आयी एक स्त्री
पीतल के बड़े-से गिलास में मेरे लिए पानी लिये
मैं पानी पीता हुआ देखता रहा
उसके दूसरे हाथ में गुळी के लोटे को
एक पुरानी सभ्यता की तरह

थोड़ी देर बाद दूसरी स्त्री
टूटी डण्डी के कपों में चाय लिए आयी
उसके साथ आये
चार-बच्चे चड्डियाँ पहने
उनके पीछे एक लड़की और लड़का
स्कूल-यूनिफॉर्म में
कदाचित यह उनकी सर्वश्रेष्ठ पोशाक थी

मैं अपनी दादी की दूर के रिश्ते की बहन से मिला

मैंने तो क्या मेरे पिताजी ने भी
ठीक से नहीं देखी मेरी दादी
कहते हैं पिताजी
‘माँ सिर्फ़ सपने में ही दिखायी देती हैं वह भी कभी-कभी’

उस गुवाड़ी से निकलकर मैं जब बाहर आया
तो उस बूढ़ी स्त्री के चेहरे में
अपनी दादी को खोजते-खोजते
अपनी बेटी तक चला आया

जिन्होंने नहीं देखी हैं दादियाँ
उनके घर चली आती हैं दादियाँ
बेटियों की शक्ल में।

9 comments:

  1. बेहद मर्मस्पर्शी कविता है यह.

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (27/9/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. aanand aa gayaa. bhaiya. bahut maarmik aur asaliyatbhri

    ReplyDelete
  4. जिन्होने नहीं देखी दादियाँ
    उनके घर चली आती हैं दादियाँ
    बेटियों की शक्ल मे ।
    ...............
    आपकी कविता दो पीढ़ियों को फलांग कर संवाद कर रही है..... अद्भुत है यह !!! स्त्री -विरोधी इस समय मे बेटियों से बनती आपकी इस दुनियाँ मे विकल मार्मिकता तो है ही साथ ही साथ एक विमर्श भी है कि समूची दुनिया को बेटियों की जरूरत है.....सहभागिता ही इस संसार को अराजक होने से बचा पाएगी । हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  5. दिल को छू गयी आपकी कविता। आभार।

    ReplyDelete
  6. बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति......दिल को छू लिया....आभार..

    ReplyDelete
  7. दादी , आज हम भी बेटियों की शक्ल में ही देखते हैं दादी को.
    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  8. जिन्होंने नहीं देखी हैं दादियाँ
    उनके घर चली आती हैं दादियाँ
    बेटियों की शक्ल में।
    भाई साब
    नमस्कार !
    दिल को चुने वाली है कविता ,पूरी कविता बेहद सुंदर है , मेरी पसंद कि पंकतिया आप को सादर प्रस्तुत कि है ,
    साधुवाद
    सादर !
    --

    ReplyDelete

Indic Transliteration