Tuesday, 24 August, 2010

बहन

बहन

मां की कोख से
पैदा हुई लड़की का ही नाम नहीं है
उस रिश्‍ते का भी नाम है
जो पुरुष को मां के बाद
पहली बार
नारी का सामीप्‍य और स्‍नेह देता है

बहन
कलाई पर राखी बांधने वाली
लड़की का ही नाम नहीं है
उस रिश्‍ते का भी नाम है
जो पीले धागे को पावन बनाता है
एक नया अर्थ देता है

मां
पुरुष की जननी है
और पत्‍नी जीवन-संगिनी
             पुरुष के नारी-संबंधों के
                इन दो छोरों के बीच
पावन गंगा की तरह बहती
नदी का नाम है
बहन

2 comments:

  1. बहन की सही परिभाषा रक्षाबंधन के अवसर पर सुंदर रचना ,बधाई

    ReplyDelete
  2. भाई -बहन के प्रेम पर एक सौम्य कविता ...
    ईश्वर यही जज्बा हर दिल में हर भाई -बहन के प्रेम के लिए जगाये रखे ...!

    ReplyDelete